|| श्री गणेशाय नमः ||
|| श्री हरिः ||
गीता प्रेस : सन् 1923 से सत्य एवं शान्ति हेतु मानव सामाज की सेवा में

नित्य प्रार्थना

कर प्रणाम तेरे चरणों में लगता हूँ अब तेरे काज ।
पालन करने को आज्ञा तव मैं नियुक्त होता हूँ आज ॥
अन्तर में स्थित रहकर मेरे बागडोर पकड़े रहना ।
निपट निरंकुश चंचल मन को सावधान करते रहना ॥

अन्तर्यामी को अन्त:स्थित देख सशंकित होवे मन ।
पाप वासना उठते ही हो नाश लाज से वह जलभुन ॥
जीवों का कलरव जो दिनभर सुनने में मेरे आवे ।
तेरा ही गुणगान जान मन प्रमुदित हो अति सुख पावे ॥

तू ही है सर्वत्र व्याप्त हरि तुझमें सारा यह संसार ।
इसी भावना से अंतर भर मिलूँ सभी से तुझे निहार ॥
प्रतिपल निज इन्द्रिय समूह से जो कुछ भी आचार करूँ ।
केवल तुझे रिझाने को बस तेरा ही व्यवहार करूँ ॥

कर प्रणाम तेरे चरणों में लगता हूँ अब तेरे काज ।
पालन करने को आज्ञा तव मैं नियुक्त होता हूँ आज ॥

Quick links

Follow us on

Get in touch

kalyan@gitapress.org

आप कल्याण संबंधित जानकारी के लिये सीधे फोन नंबर +91 92354 00242, +91 92354 00244 पर गोरखपुर कल्याण कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

मोबाइल नंबर +91 96489 16010 पर SMS एवम् WhatsApp की सुविधा भी उपलब्ध है।

कार्यालय का समय 09:00 से 12:30 एवम् 13:00 से 17:00, सोमवार से शनिवार।

Copyright 2022. All right reserved